हदिये की तहक़ीक़ का कैसा जज़्बा true motivational story in hindi

हदिये की तहक़ीक़ का कैसा जज़्बा
islamicedu for you
Islamic story Hindi


     हजरत उमर बिन अब्दुल अजीज रहमतुल्लाहि अलयहि को कौन नहीं जानता ?  आप सल्तनते बनू उमय्या के मशहूर खलीफा गुज़रे है । आप बादशाह थे । लेकिन उंचे  दरजे के तकवेवाले थे ।

    आपकी परहेजगारी बेमिसाल थी । एक दिन की बात है । खलीफा हज़रत उमर बिन अब्दुल अज़ीज़ रहमतुल्लाहि अलयहि बैठे हुए थे ।इतने में एक आदमी आया और आपके सामने दो टोकरियाँ खजूर की पेश की । आपने पूछा . . . " यह खजूरे कहाँ से लेकर आये हो ?

     " उसने कहा . . . “ या अमीरुल मुअमिनीन ! यह ' उर्दून ' के गवर्नर ने आपके लिये हदिये में भेजी है । "  उर्दून एक देश का नाम है । जो आज ' जोर्डन ' नाम से जाना जाता है । फिर आपने उस से पूछा . . . . " इसे वहाँ से लेकर कौन आया है ?

     " उसने कहा . . . “ या अमीरुल मुअमिनीन ! इसे डाक  या ' नी टपाल की सवारियों पर लाद कर लाया गया है । " आप ने पूछा . . . " अच्छा यह बताओ वह सवारीयाँ किस की थी ? " उसने कहा . . . " वह तो बयतुलमाल की थी । "

     यह सुनते ही आपने फरमाया . . . " मैं इन खजूरों को नहीं खा सकता । क्यूं कि मैं बयतुलमाल की सवारियोंका मालिक नहीं हूँ । इसलिये उन सवारियों से फायदा उठाना मेरे लिये मुनासिब नहीं है ।

      बयतुलमाल की सवारियों से फायदा उठाने का हक आम लोगों का है ।


      फिर आपने आगे फरमाया . . . " अभी बाज़ार जाओ और इन दोनों टोकरियों को बेच दो । फिर जो कीमत आए उससे चारा खरीद कर बयतुलमालकी सवारियों को खिला दो । " वह आदमी तुरन्त बाजार गया और चौदह दिरहम में टोकरियों को बेच दिया । 

      टोकरियाँ खरीदने वाला आदमी हजरत उमर बिन अब्दुल अजीज का भतीजा ही था । । भतीजे ने फिर से एक टोकरी अपने चचा या ' नी हज़रत  उमर बिन अब्दुल अजीज के पास भेजी ।

      हजरत उमर बिन अब्दुल अजीज़ टोकरी को पहचान गए और उस से पूछा . . .

      " अरे ! क्या यह वहीं टोकरी नहीं है जो तुम उस से पहले मेरे पास लेकर आए थे ? " उस आदमीने कहा . . . " हाँ , वहीं है ।

     लेकिन वह दोनों  टोकरियां आपके भतीजे ने खरीद ली और उस में से एक आपको हदिये में भेजी है । " आपने फरमाया . . . " अब मैं इस को खा सकता हूँ । ”

हदिये की तहकीक का कैसा जजबा ।

Searches related to inspirational short stories about life



➥FORE MORE ISLAMIC STORIES IN HINDI OR ENGLISH
➥FOLLOW BY EMAIL

Post a Comment

0 Comments