Breaking News

inspirational short stories about life अनथक मेहनत की,और इल्म की दौलत ली।

inspirational short stories about life
अनथक मेहनत की,और इल्म की दौलत ली।

islamicedu for you
inspirational short stories about life



             एक थे नेक आदमी । उनको बड़ी उम्र में इल्म हासिल से नीश करने का शौक पैदा हुआ । उसवक्त बगदाद इल्मेदीन का मरकज़ था । वहाँ इल्मेदीन के बड़े बड़े उलमा - ए - किराम मौजूद थे ।

           जगह जगह इल्मी मजलिसें लगती थी । चारों तरफ इल्म का चर्चा था । इल्म का बोलबाला था । इसलिये वह आदमी बगदाद पहुंचे और इल्म हासिल करने में मशगूल हो गए ।

           उन के दिल में इल्म की तड़प बहुत थी । लेकिन उम्र ज़्यादा हो चुकी थी । ज़बान बराबर चलती नहीं थी । जो किसी बात को सही तरीके से बोल नहीं सकते थे । जिस की वजह से बच्चे हंसते ।

          उनका मज़ाक उड़ाते । यह देखकर वह आदमी मायूस हो गए । अब उन्होंने कूऐ में डूबकर मर  जाने का इरादा किया । इसी इरादे से वह कूए के करीब पहंचे । इतने में उन की नज़र कूऐ में तैरते हुऐ  लकड़े के एक सख्त टुकडे पर पड़ी । जो घीस चुका था ।

         उस पर जगह जगह किसी चीज़ के घीसाई के नीशान पड़ गए थे । वह देखकर उस आदमी ने एक औरत को पूछा . . . .

         इस टुकडे पर यह नीशान किस चीज़ के है ? " औरतने कहाँ . . . “ यह नीशान डोल और रस्सी के है । लोग जब पानी भरने के लिये रस्सी बांधकर डोल कूऐ में डालते है तो कई मरतबा वह डोल लकड़े के इस टुकडे से टकराती है , जिस की वजह से इस पर नीशान पड़ चूके है ।

         वह जगह जगह से घीस चुका है । औरत की बात सुनकर उस आदमी ने सोचा . . . " जैसे सख्त टुकड़े पर बार बार किसी चीज़ के टकराने से निशान पड सकते है । तो मेरी तो ज़बान नरम है , सख्त  मेहनत और कोशिश से इस ज़बान से सही बात क्यूं नहीं  निकल सकती , जरुर निकल सकती है ।


           यह सोचकर उस आदमी ने डूबने के इरादा छोड़ दिया । वहाँ से वापस आए और फिर इल्म हासिल करने में लग गए । रात - दिन वह इल्म की तलब में लगे रहे । यहाँ तक के एक वक्त वह आया के उनकी गिनती दुन्या के नामवर उलमा और बुजुर्गों में होने लगी । बाद में उन्होंने फारसी भाषामें किताबें लिखी थी ।

           जो आज भी दुन्याभर के मद्रसों में पढाई जाती है और इज्जत की निगाह से देखी जाती है । जानते हो बड़ी उम्र के बावजूद अनथक मेहनत और कोशिश से इल्म की दौलत हासिल कर के इल्मेदीन के बड़े आलिम बननेवाले वह आदमी कौन थे ?

           और उनकी किताबें कौन सी है ? वह आदमी हज़रत शैख सअदी शीराजी रहमतुल्लाहि अलयहि है । और उन की दो मशहूर किताबें गुलिस्ताँ और बोस्ताँ है । आप का असल नाम शरफुद्दीन है । सअदी आप का तखल्लुस है ।

         आप के अब्बाज़ी शैख अब्दुल्लाह इरान के बादशाह सअद जंगी के नौकर थे । उस बादशाह के ज़माने में ही आपने शे'र शाईरी कहना शुरु कर दी थी ।

          इसलिये ' सअदी ' के तखल्लुस से मशहूर हुए । - आप की पैदाईश हिजरी सन 589 में इरान की राजधानी ' शीराज़  में हुई थी । और वफात हिजरी सन 691 में हुई ।

आपने लगभग 100 साल से ज़्यादा उम्र पाई।


inspirational short stories about life

➥FOR MORE SHORT ISALMIC STORIES OF PROPHET(S.A.W.)

➥FOLLOW BY EMAIL

FOR MORE INTERESTING ARTICLES SELECT ANY ONE OPTION BELOW

No comments

8c2d3cd25322831488e1cb7171b47b22c791154bc5e43562d8