Breaking News

तहज्जुद गुजार महान बादशाह,शाहजहाँ ,short islamic stories of shaahjaha,

तहज्जुद गुजार महान बादशाह, शाहजहाँ
islamicedu for you
islamic story in hindi


सल्तनते मुगल में एक एसे बादशाह गुज़रे है !

         जिन का ज़माना हिन्दुस्तान के इतिहास में ' सुनहरा दौर ' कहा जाता है । जानते हो वह बादशाह कौन थे ? वह बादशाह शाहजहाँ थे । बादशाह शाहजहाँ को तामीरी काम का बहुत शौक था ।

       उन्होंने हिन्दुस्तान में जैसी कई शानदार इमारतें बनवाई जिस की वजह से आज पूरी दुन्या हिन्दुस्तान को जानती है । उन्ही में से एक इमारत है दिल्ही की जामे मस्जिद ।

        इस जामे मस्जिद की संगे बुन्याद किस ने रख्खी । या ' नी उस की पाया विधि किस ने की उस का इतिहास बहुत दिलचस्प है । एक मरतबा बादशाह शाहजहाँने में एक आलीशान मस्जिद बनाने का - इरादा किया!

       लेकिन उनकी चाहत थी के मस्जिद की संगे बुन्याद कोई जैसा आदमी रख्खे जिस की कभी तहज्जुद की नमाज़ न छूटी हो ।

      एक दिन इस के लिये उन्होंने आम लोगों के सिवा उस वक्त के बड़े बड़े उलमा - ए - किराम और बुजुर्गाने दीन को बुलाया । जब सब हाज़िर हो गए तो ओलान किया गया . . . . “ मस्जिद की संगे बुन्याद वह आदमी रख्खे जिसकी कभी तहज्जुद की नमाज़ छूटी न हो ।

 " यह एलान सुनते ही मजलिस में सन्नाटा छा गया। एक दूसरे का मुंह देखने लगे ।

      थोड़ी देर के बाद सादा लिबास पहने हुए एक आदमी आगे बढ़ा । और मस्जिद की संगे बुन्याद रखी । फिर यह आदमी जैसे ही लोगों की तरफ मुड़ा तो सब लोग हैरत में पड़ गए । सबकी आँखे फटी की फटी रह गई । क्यूं कि मस्जिद की संगे बुन्याद रखनेवाले वह आदमी कोई और नहीं लेकिन खूद बाहशाह शाहजहाँ थे ।

        बादशाह शाहजहाँ का असल नाम शिहाबुद्दीन मुहम्मद है । और उन के अब्बाजी का नाम सलीम नुरुद्दीन मुहम्मद था । है । जो जहाँगीर के लकब से मशहूर है ।

        और शाहजहाँ से पहले वही हिन्दुस्तान के बादशाह थे । शाहजहाँ की पैदाइश लाहोर के खुर्रम गाँव में हिजरी सन १००० में हुई थी । जब वह चार साल , चार महिने और चार दिन के हुए तो उन को खानदानी रिवाज के मुताबिक इल्मे दीन हासिल करने के लिये बिठाया गया ।

         उन की तअलीम के लिये उस वक्त के बड़े और काबिल उस्ताद रख्वे गए । उन के उस्तादों में गुजरात के मशहूर बुजुर्ग हजरत शाह वजीहुद्दीन अल्वी गुजराती रहमतुल्लाहि अलयहि का भी नाम आता है । शाहजहाँ ने अपनी हुकूमत में बहुत सी खुबसुरत इमारतें बनवाई ।

       उन्होंने अपनी बेगम मुमताज की याद में ताजमहल बनवाया । जो आज पूरी दुन्या में ' मुहब्बत की नीशानी ' के नाम से जाना जाता है । दिल्ही का लाल किला भी शाहजहाँ ने बनवाया ।

जिस पर राष्ट्रीय पर्व के दिन हमारे हिन्दुस्तान देश का तिरंगा लहराया जाता है।

शाहजहाँ की वफात हिजरी सन 1067 में हुई थी।शाहजहा का मजार आगरा के किले में है।


➥FOR MORE SHORT ISALMIC STORIES OF PROPHET(S.A.W.)
➥FOLLOW BY EMAIL
FOR MORE TRENDING AND INTERESTING ARTICLES CLICK BELOW

No comments

PLEASE DO NOT ENTER ANY SPAM LINK IN THE COMMENT BOX.